Monday, August 6, 2018

What Is Internet ? in Hindi Dark Web , Deep Web , Surface Web क्या हैं ?

What Is Internet ? Dark Web , Deep Web , Surface Web  क्या  हैं ?


इंटरनेट है क्या  आप को पता है आप रोजाना बहुत सारे website open करते है लेकिन वह  इन्टरनेट का 5 % ही यूज़ करते है  अगर इंटरनेट (Internet ) की बात की जाये तो हम आपको  बतायेंगे कि आप इंटरनेट को अच्‍छे से जानते हैं,लेकिन आप Internet पर आप google और इसके अलावा लाखों ऐसी वेबसाइट हैं जिन्‍हें अाप और आपके साथ दुनिया भर के लोग हर रोज इस्‍तेमाल करते हैं, लेकिन अगर हम कहें दुनिया भर के लोग इंटरनेट का जो हिस्‍सा इस्‍तेमाल करते हैं वह केवल पूरे इंटरनेट का केवल 5 प्रतिशत ही है तो शायद कई लोग यकीन नहीं मानेगें लेकिन ये सच है आप साधारण ताैर इंटरनेट को जो हिस्‍सा इस्‍तेमाल करते हैं या सीधे शब्‍दों में कहें तो आप इंटरनेट के जिस हिस्‍से तक पहुँच रखते हैं वह Public Internet है इसेे Surface web भी कहते है वह केवल 5 प्रतिशत ही है, अब प्रश्‍न है कि बाकी 95% इंटरनेट कौन प्रयोग करता है और वह कहां हैं तो आईये जानने की कोशिश करते हैं |


Surface Web,Deep Web,Dark Web

दोस्तों आप सभी internet का इस्तेमाल तो हर रोज करते होंगे और search इंजन की मदद से न जाने कितनी website को search करते होंगे, जिसमे आप GOOGLE FACEBOOK YOUTUBE और भी  website को सर्फ करते होंगे. लेकिन आप ने कभी सोचा है की क्या सभी website search इंजन में इंडेक्स होती है. और क्या सभी website या सभी जानकारी को internet पर search इंजन GOOGLE  माध्यम से खोजा जा सकता है नही Internet पर बहुत सी एसी चीज है
जो आप आसानी से प्राप्त नही कर सकते है तो चलिए जानते है

  • इटरनेट को Access कर पाने के अनुसार उसे तीन भागों में बॉटा गया है -

  1. सर्फेस वेब (Surface Web)
  2. डीप वेब (Deep Web)
  3. डार्क वेब (Dark Web)
dark web-deep web-surface web

सर्फेस वेब (Surface Web)


इंटरनेट का वह भाग है जिसे आप आमतौर पर इस्‍तेमाल करते हैं इसके लिये आपको किसी special permission की अावश्‍यकता नहीं हाेती है, इन वेेबपेज पर पहुॅचने के लिये आप search engine का सहारा लेते हैं इस दूसरे तरीके से देखें तो सर्फेस वेब (Surface Web) को Google और Bing जैसे search engine इंडेक्स करते हैं और आपके द्वारा कोई भी क्‍वेरी सर्च करने पर Result के तौर पर दर्शाते हैं और ज्‍यादातर लोग इन्‍हीं सर्च इंजन का प्रयोग कर सर्फेस वेब (Surface Web) की इन वेबसाइट पर पहुॅचते हैैं |
                                                                                             अर्थात हम search इंजन के माध्यम से जो कंटेंट या जानकारी internet के माध्यम से प्राप्त करते है वो internet पर मौजूद कंटेंट या जानकारी का केवल 5 प्रतिशत ही होता है. बाकि का 95 प्रतिशत ऐसा है जिन्हें हम नार्मल ब्राउज़र या search इंजन के मदद से भी नहीं प्राप्त कर सकते है.|

डीप वेब (Deep Web)


डीप वेब एक एन्क्रिप्टेड नेटवर्क हैं की जिसे एक स्पेशल गुप्त अक्षरों के मदद से छिपाया जाता हैं
Deep Web ऐसा इन्टरनेट है जिसे हम सर्च करके नहीं पा सकते। क्योंकि ये No Index वेबसाइट होती है लेकिन इसका इस्तेमाल हम कर सकते है। जितनी भी Cloud Storage की वेबसाइट होती है वो Deep Web में आती है। जिसे हम सिर्फ तभी एक्सेस कर सकते है जब हमारे पास उसके लिए Fix URL है और उसे लिए उसका पासवर्ड हो। इस तरह की वेबसाइट पर गोपनीय जानकारी सेव की जाती है, या सरकारी  डाटा एक जगह से दूसरी जगह पर भेजा जाता है बैंक में या फिर इस पर डाटाबेस बनाकर रखा जाता है या ईमेल लिस्टिंग की जाती है और गवर्नमेंट पब्लिकेशन भी इसी प्रकार की साइट पर होती है। इन वैबसाइट को वही लोग एक्सेस कर सकते हैं जिनके पास इसकी परमिशन है जब तक आप के पास वेबसाइट सही URL और Password नही होता हैं तब तक आप इसे नहीं देख पाएंगे।

डार्क वेब (Dark Web)


कुछ सालाें पहले डीप वेब (Deep Web) अाैर डार्क वेब (Dark Web) काे एक ही माना जाता था लेकिन गैर कानूनी गतिविधियों वजह से इसे दो हिस्‍सों डीप वेब (Deep Web) अाैर डार्क वेब (Dark Web) में विभाजित कर दिया गया डार्क वेब (Dark Web) डीप वेब (Deep Web) का ही हिस्‍सा है, इसका प्रयोग इंटरनेट पर सभी प्रकार के गैर कानूनी काम करने के लिये किया जाता है जैसे ड्रग्स खरीदना व बेचना, किसी भी तरह का ख़तरनाक से ख़तरनाक हथियार खरीदना व बेचना, मानव तस्करी, ATM Debit/Credit Card की जानकारी चुराकर किसी को बेचना आदि |
यहाँ आत्मा भी बेचा जाता हैं
लेकिन Normal Browser से access नहीं कर सकता क्योंकि General public के लिए dark web की कोई भी जानकारी नहीं रखी जाती और न ही कोई search engine इसको रखने की इज़ाज़त देता है यदि google internet browser mozilla firefox जैसे सर्च इंजन इस तरह की गैरकानूनी content को accept करने लगे तो हम और आप जैसे लोगो के लिए internet की छवि ही बदल जाएगी। जो पूर्ण नियमानुसार चल रहा है वो सब गड़बड़ हो जायेगा ।और बहुत सी जगहों पर इन्टरनेट का मिसयूज होने लगेगा ।
डार्क वेब (Dark Web) पेज पर आम तरीकों से नहीं पहुॅचा जा सकता है, यहां पहुुॅुचने के लिये लोग एक अलग ब्राउजर का इस्‍तेमाल करते हैं, जिसे टॉर कहते हैं, TOR एन्क्रिप्शन टूल से डार्क वेब (Dark Web) पेज को एनक्रिप्ट किया जाता है ये साइट छुप जाती है, सर्च इंंजन इसे इंडेक्स नहीं पाते और यह सिर्फ टॉर ब्राउजर पर ही दिखती हैं |

Note :-But I Don’t recommend you to use Tor browser क्योंकि ये आपके काम की चीज नहीं है।


1 comment: