शिव चालीसा PDF Download | शिव चालीसा हिंदी अर्थ सहित पूरी जानकारी हिंदी में

भगवान शिव के बारे में कुछ जानकारी 

शिव एक प्रमुख हिंदू देवता और त्रिमूर्ति के विध्वंसक हैं। भगवान शिव को आमतौर पर शिव लिंग के अमूर्त रूप में पूजा जाता है। छवियों में, वह आम तौर पर गहरे ध्यान में होता है या तांडव नृत्य करते है। भगवान महेश या शिव, हिंदू त्रिमूर्ति में से एक, संहारक हैं। वह ब्रह्मांड के निर्माता सदा शिव के रूप का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनके गुण आसुरी गतिविधि पर विजय और मानव स्वभाव की शांति का प्रतिनिधित्व करते हैं। लिंग पुराण और शिव महापुराण के अनुसार वह ब्रह्मांड के निर्माता और ब्रह्मा, विष्णु और रुद्र के पिता हैं। वह निर्गुण हैं यानी प्रकृति से मुक्त और सबसे शक्तिशाली हैं।

Shiv Chalisa
Shiv Chalisa PDF Download In Hindi

भगवान शिव परमात्मा के प्राथमिक पहलुओं की हिंदू त्रिमूर्ति हैं जिनका मृत्यु और विनाश पर प्रभुत्व है। वह एक ध्यानपूर्ण लेकिन हमेशा खुश मुद्रा में दिखाई देता है जिसमें उनके जटा धारी बाल होते हैं जिसमें से गंगा की निर्मल धार निकलती है और एक अर्धचंद्रा कार है, उसके गले में एक नाग, एक हाथ में एक त्रिशूल (त्रिशूल) और उसके पूरे शरीर में राख होता है। उन्हें “दाता” भगवान के रूप में जाना जाता है। उनका वाहन नंदी नाम का एक बैल (सुख और शक्ति का प्रतीक) है।

शिव की निशानी शिव-लिंग को उनके स्थान पर पूजा जाता है। शिव को योगियों में सबसे महान, ध्यान का स्वामी और हिंदू प्रथाओं में सभी के स्वामी भी माना जाता है। किंवदंती है कि पवित्र नदी गंगा (या गंगा) वास्तव में भगवान शिव के लंबे बालों का प्रतिनिधित्व करती है।

कुछ ग्रंथों में शिव के रूपों के रूप में पांच अक्षरों का उल्लेख किया गया है 

  1. ना-गेंद्र (जो सांपों की माला पहनता है)
  2. मां-ंडकिनी सलिला (गंगा के पानी से स्नान करने वाला)
  3. शि (परम भगवान)
  4. वशिष्ठ (जिसकी वशिष्ठ जैसे ऋषियों द्वारा प्रशंसा की जाती है)
  5. य-क्ष (वह जो यक्ष का रूप धारण करता है)

Om नमः शिवाय मंत्र या जाप में छह शब्दांश होते हैं 

  1. ओम
  2. ना
  3. मह
  4. शि
  5. वा
  6. या

शिव चालीसा 40 चौपाई (छंद) हैं जो भगवान शिव की स्तुति में लिखी गई हैं।

शिव चालीसा के बारे में (About Shiv Chalisa)

हिंदू धर्म में भगवान की सरल भाषा में की जाने वाली प्रार्थना चालीसा कहलाती है। चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति के जीवन में अद्भुत प्रभाव पड़ता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसे चालीसा क्यों कहा जाता है? अगर नहीं? तो हम आपको बताते हैं। इस प्रार्थना को चालीसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसमें चालीस पंक्तियाँ होती हैं।

और यह सरल भाषा में होने के कारण इसे कोई भी आसानी से पढ़ा सकता है और भगवान को प्रसन्न करने का यह सबसे आसान और बहुत लोकप्रिय तरीका हमारे  हिंदू धर्म में माना जाता है।

शिव चालीसा पढ़ने के नियम (Rules for Reading Shiv Chalisa) 

ये हमारा मानना है केवल किसी भी भगवन को मानना या उनकी चालीसा पढ़ने का कोई सहीं समय नही होता है केवल आपके मन में श्रद्धा और मन में विश्वास होना चहिये आप से भगवान जरुर खुश होगे

लेकिन हमारी मान्यता अनुसार किसी भी भगवन की पूजा या उनका मन्त्र या चालीसा का जाप करने के कुछ नियम है

  • शिव चालीसा पढ़ने के लिये आप सुबह का समय उचित है
  • ब्रह्म मुहूर्त (सुबह सूर्य निकलने का समय ) में अपना मुंह दिशा पूर्व की ओर करें और सफेद आसन पर बैठें।
  • आप सुबह के समय शुद्ध यानि की स्नान कर के जाप करना चाहिए
  • शिव चालीसा का पाठ अच्छे से उच्चारण के साथ करें, जितने लोगों को यह सुनाई देगा उनको भी साथ में लाभ प्राप्त होगा ।
  • 11, 21, 51, 101, बार पाठ करें
  • पूजा के वक्त धूप दीप सफेद चंदन माला, 5 सफेद फूल भी रखें और मिश्री को प्रसाद में रखें।
  • शिव चालीसा पाठ करने से पहले गाय के घी का दिया जलाएं और एक लोटे में शुद्ध जल भरकर रखें।
  • 11 या 21 बेलपत्र भी उल्टा करके शिवलिंग पर अर्पण करें।
  • शिव चालीसा का पाठ पूर्ण भक्ति भावना से करें।
  • मनचाहे वरदान पूरा करने के लिए यह पाठ 40 दिन लगातार करें।
  • पाठ पूरा होने के बाद लोटे का जल सारे घर मे छिड़के और थोड़ा सा जल स्वयं पीए और मिश्री प्रसाद के रूप में बाटें।

शिव चालीसा पढ़ने से क्या लाभ होता है (What are the benefits of reading Shiv Chalisa)

भगवान शिव चालीसा के माध्यम से आप के सारे दुखों को दूर कर शिव की अपार कृपा प्राप्त कर सकते हैं। व्यक्ति के जीवन में शिव चालीसा का बहुत महत्व है। शिव चालीसा के सरल शब्दों से भगवान शिव आसानी से प्रसन्न हो जाते  हैं। शिव चालीसा के पाठ से सबसे कठिन से कठिन कार्य भी  बहुत ही आसानी से पूरा हो जाता जाता  हैं।

शिव चालीसा डाउनलोड पीडीएफ ( Shiv Chalisa PDF Download In Hindi)

Shiv Chalisa PDF Download

शिव चालीसा हिंदी में PDF Download
Download PDF
Shiv Chalisa in English
Download PDF

Shiva Chalisa MP3 Song Download

MP3 Download

शिव चालीसा हिंदी अर्थ सहित (Shiv Chalisa With Hindi Meaning)

॥दोहा॥

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान।

कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

हे गिरिजा के पुत्र, भगवान श्री गणेश, आपकी जय हो। आप शुभ हो, विद्वता के दाता, अयोध्यादास प्रार्थना करते हैं कि आप ऐसा वरदान दें कि सभी भय दूर हो जाएं।

॥चौपाई॥

जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥

भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥

हे गिरिजा पति, आपकी जय हो भगवान शिव, आप दीन दया हैं, आप हमेशा संतों के संरक्षक रहे हैं। आपके सिर पर एक छोटा सा चाँद शोभायमान है, आपने कानों में नागफनी की कुण्डलियाँ डाली हैं।

अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन क्षार लगाए॥

वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देखि नाग मन मोहे॥

आपकी जटाओं से ही गंगा बहती है, आपके गले में मुंडमाल है। बाघ की खाल के वस्त्र भी आपके तन पर जंच रहे हैं। आपकी छवि को देखकर नाग भी आकर्षित होते हैं।

मैना मातु की हवे दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥

कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥

मां मैनवंती की लाडली अर्थात माता पार्वती जी आपके बाएं अंग में हैं, उनकी छवि भी मन को अलग से प्रसन्न करती है, अर्थात माता पार्वती भी आपकी पत्नी के रूप में पूजनीय हैं। हाथों में त्रिशूल आपकी छवि को और भी आकर्षक बनाता है। तूने सदा शत्रुओं का नाश किया है।

नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥

कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥

आपके सानिध्य में नंदी व गणेश सागर के बीच खिले कमल के समान दिखाई देते हैं। कार्तिकेय व अन्य गणों की उपस्थिति से आपकी छवि ऐसी बनती है, जिसका वर्णन कोई नहीं कर सकता।

देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥

किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥

तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥

आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥

हे प्रभु, जब कभी देवताओं ने तुम्हें पुकारा है, तो तुमने उन्हें तुरंत उनके दुखों से मुक्त कर दिया। जब तारक जैसे राक्षस के प्रकोप से परेशान देवताओं ने आपकी शरण ली, तो उन्होंने आपके लिए याचना की। हे भगवान, आपने तुरंत शादानन (भगवान शिव और पार्वती के पुत्र कार्तिकेय) को तारकासुर को मारने के लिए भेजा। आपने जालंधर दानव का वध किया (श्रीमद् देवी भागवत पुराण के अनुसार, जालंधर का जन्म भगवान शिव की महिमा से हुआ था)। आपकी भलाई के बारे में पूरी दुनिया जानती है।

त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥

किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥

हे शिव शंकर भोलेनाथ आपने ही त्रिपुरासुर (तरकासुर के तीन पुत्रों ने ब्रह्मा की भक्ति कर उनसे तीन अभेद्य पुर मांगे जिस कारण उन्हें त्रिपुरासुर कहा गया। शर्त के अनुसार भगवान शिव ने अभिजित नक्षत्र में असंभव रथ पर सवार होकर असंभव बाण चलाकर उनका संहार किया था) के साथ युद्ध कर उनका संहार किया व सब पर अपनी कृपा की। हे भगवन भागीरथ के तप से प्रसन्न हो कर उनके पूर्वजों की आत्मा को शांति दिलाने की उनकी प्रतिज्ञा को आपने पूरा किया।

दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥

वेद माहि महिमा तुम गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥

हे प्रभु, आपके जैसा कोई दूसरा दाता नहीं है, दास अनादि काल से आपके लिए प्रार्थना करते रहे हैं। हे प्रभु केवल आप ही अपने रहस्य को जानते हैं, क्योंकि आप अनादि काल से उपस्थित हैं, आपका वर्णन नहीं किया जा सकता है, आप अवर्णनीय हैं। वेद भी तेरी महिमा का गान नहीं कर सकते।

प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला। जरत सुरासुर भए विहाला॥

कीन्ही दया तहं करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥

हे प्रभु, जब क्षीर सागर मंथन में विष से भरा घड़ा निकला तो सभी देवता और राक्षस भय से कांपने लगे (पौराणिक कथाओं के अनुसार समुद्र मंथन से निकला यह विष इतना खतरनाक था कि यहां तक कि इसकी एक बूंद ब्रह्मांड के लिए विनाशकारी थी) आप सभी लेकिन मेहर की वर्षा करते हुए उन्होंने इस विष को अपने कंठ में धारण कर लिया, जिससे आपका नाम नीलकंठ पड़ा।

पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥

सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥

एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥

कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भए प्रसन्न दिए इच्छित वर॥

हे नीलकंठ आपकी पूजा करके भगवान श्री रामचंद्र लंका को जीतकर विभीषण को सौंपने में सफल रहे। इतना ही नहीं, जब श्रीराम मां शक्ति की पूजा कर रहे थे और सेवा में कमल अर्पित कर रहे थे, तब आपके कहने पर देवी ने उनकी परीक्षा लेते हुए एक कमल को छिपा दिया था। अपनी पूजा को पूरा करने के लिए, राजीव नयन, भगवान राम ने कमल के बजाय अपनी आंख से पूजा करने का फैसला किया, तब आप प्रसन्न हुए और उन्हें वांछित वरदान दिया।

जय जय जय अनन्त अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥

दुष्ट सकल नित मोहि सतावै। भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै॥

त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। येहि अवसर मोहि आन उबारो॥

लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट ते मोहि आन उबारो॥

हे अनंत एवं नष्ट न होने वाले और अविनाशी भगवान भोलेनाथ, जो सभी पर दया करते हैं, शिव शंभू, जो सभी के हृदय में निवास करते हैं, आपकी जय हो। हे प्रभु, काम, क्रोध, मोह, लोभ, अहंकार जैसे सभी दुष्ट मुझे सताते रहते हैं। उन्होंने मुझे भ्रम में डाल दिया है, जिससे मुझे शांति नहीं मिल सकती। हे प्रभु मुझे इस विकट परिस्थिति से उबारो, यही उचित अवसर है। अर्थात जब मैं इस समय आपकी शरण में हूँ तो मुझे अपनी भक्ति में लीन कर मोह से मुक्त कर दे, सांसारिक कष्टों से मुक्त कर दे। अपने त्रिशूल से इन सभी दुष्टों का नाश करो। हे भोलेनाथ, आओ और मुझे इन कष्टों से मुक्ति दिलाओ।

मात-पिता भ्राता सब होई। संकट में पूछत नहिं कोई॥

स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु मम संकट भारी॥

धन निर्धन को देत सदा हीं। जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥

अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥

हे प्रभु संसार के सम्बन्धों में माता-पिता, भाई-बहन, सम्बन्धी-सम्बन्धी सब होते हैं, परन्तु विपदा आने पर कोई उनका साथ नहीं देता। हे प्रभु, आप ही एकमात्र आशा हैं, आओ और मेरे कष्टों को दूर करो। आपने हमेशा गरीबों को पैसा दिया है, जो फल चाहता है, वही फल आपकी भक्ति से मिला है। हम किस प्रकार से आपकी स्तुति करें, प्रार्थना करें, अर्थात हम अज्ञानी हैं प्रभु, यदि आपकी पूजा करने में कोई गलती हो, तो हे प्रभु, हमें क्षमा करें।

शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥

योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। शारद नारद शीश नवावैं॥

हे शिव शंकर आप तो संकटों का नाश करने वाले हो, भक्तों का कल्याण व बाधाओं को दूर करने वाले हो योगी यति ऋषि मुनि सभी आपका ध्यान लगाते हैं। शारद नारद सभी आपको शीश नवाते हैं।

नमो नमो जय नमः शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥

जो यह पाठ करे मन लाई। ता पर होत है शम्भु सहाई॥

हे भोलेनाथ, मैं आपको नमन करता हूं। जिनके ब्रह्मा जैसे देवता भी भेद न जान सके, हे शिव, जय हो। जो कोई भी इस पाठ को लगन से करेगा, शिव शंभू उनकी रक्षा करेंगे, आपकी कृपा उन पर बरसेगी।

ॠनियां जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥

पुत्र होन कर इच्छा जोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥

पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे॥

त्रयोदशी व्रत करै हमेशा। ताके तन नहीं रहै कलेशा॥

इस पाठ को शुद्ध मन से करने से भगवान शिव ऋणी व्यक्ति को भी समृद्ध बनाते हैं। यदि कोई बालक हीन है तो उसकी इच्छा से भी भगवान शिव का प्रसाद अवश्य मिलता है। त्रयोदशी को (चंद्र मास की त्रयोदशी को त्रयोदशी कहते हैं, प्रत्येक चन्द्रमा में दो त्रयोदशी होती हैं, एक कृष्ण पक्ष में और एक शुक्ल पक्ष में) पंडित को बुलाने, हवन करने, ध्यान करने और व्रत करने से किसी प्रकार की कोई हानि नहीं होती है।

धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥

जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्त धाम शिवपुर में पावे॥

अयोध्यादास आस कहैं तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

जो कोई भी भगवान शंकर के सामने धूप, दीपक, नैवेद्य चढ़ाकर इस पाठ का पाठ करता है, भगवान भोलेनाथ जन्म के बाद उसके पापों का नाश करते हैं। अंत में भगवान शिव के धाम शिवपुर यानी स्वर्ग की प्राप्ति होती है, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है। भगवान अयोध्यादास के लिए आपकी आशा है, आप सब कुछ जानते हैं, इसलिए भगवान हमारे सभी दुखों को दूर करते हैं।

॥दोहा॥

नित्त नेम उठि प्रातः ही, पाठ करो चालीसा।

तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥

मगसिर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान।

स्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

हर रोज नियमों से उठकर सुबह शिव चालीसा का पाठ करें और भगवान भोलेनाथ से प्रार्थना करें जो इस दुनिया के भगवान आपकी मनोकामनाएं पूरी करें। संवत 64 में, मांगसीर मास की षष्ठी तिथि को और हेमंत के मौसम के दौरान, लोगों के कल्याण के लिए भगवान शिव की स्तुति में शिव चालीसा पूरी की गई थी।

जरुर देखे :-

श्री हनुमान चालीसा हिंदी अर्थ सहित और साथ ही हनुमान चालीसा इन हिंदी पीडीएफ डाउनलोड

निष्कर्ष

आशा करता हूँ की आपको शिव चालीसा (Shiv Chalisa) Shiv Chalisa PDF Download In Hindi के बारे में हमारी जानकारी जानकारी अच्छी लगी होगी हमने अपनी जानकारी और पुस्तक और गूगल के मदत से इस पोस्ट को पोस्ट को लिखे है आपको हमारी जानकारी कैसी लगी जरुर कमेंट में बताये

लेखक

नमस्कार दोस्तों, आपका स्वागत है Desi Technical हिन्दी ब्लॉग में यहाँ हमारा पर्यास यह है की हम आपको नये-नये Technologies से रूबरू कराये और आपको सही एवं सटीक जानकारी दे सके । हमारा आपसे ये निवेदन है की आप इसी तरह आपके के अपने Blog Desi Technical में सहयोग देते रहे । धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share via
Copy link
Powered by Social Snap