Kabir Das Ke Dohe | कबीर दास के सुप्रसिद्ध दोहे हिंदी अर्थ सहित और उनके बारे में

कबीर दास जीवनी (Kabir Das Short Biography)

भारत के एक महान कवि और महान संत कबीर दास का जन्म वर्ष 1440 में हुआ था और वर्ष 1518 में उनकी निंदा की गई थी।

इस्लाम के अनुसार, कबीर का अर्थ है द ग्रेट। कबीर पंथ एक बड़ा धार्मिक समुदाय है जो संतों के संप्रदाय के प्रचारक के रूप में कबीर की पहचान करता है। कबीर पंथ के सदस्यों को कबीर पंथ के रूप में जाना जाता है, जिसका विस्तार पूरे उत्तर और मध्य भारत में हुआ।

कबीर दास के कुछ महान लेखन बीजक, कबीर ग्रंथावली, अनुराग सागर, सखी ग्रन्थ आदि हैं। यह उनके जन्म के माता-पिता के बारे में स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है, लेकिन यह ध्यान दिया जाता है कि उनका पालन-पोषण मुस्लिम बुनकरों के एक बहुत ही गरीब परिवार ने किया है। वह बहुत ही आध्यात्मिक व्यक्ति थे और एक महान भिक्षु बन गए। उन्होंने अपनी परंपराओं और संस्कृति के कारण दुनिया भर में ख्याति प्राप्त की।

ऐसा माना जाता है कि उन्होंने बचपन में अपने गुरु रामानंद के नाम से अपना सारा आध्यात्मिक प्रशिक्षण प्राप्त किया था। एक दिन, वह गुरु रामानंद के प्रसिद्ध शिष्य बन गए। कबीर दास के घर में छात्रों और विद्वानों को रहने और उनके महान कार्यों का अध्ययन करने के लिए समायोजित किया गया है।

कबीर दास के जन्म माता-पिता का कोई सुराग नहीं है, लेकिन यह माना जाता है कि उनकी देखभाल एक मुस्लिम परिवार ने की थी। उनकी स्थापना वाराणसी के एक छोटे से शहर लेहरतारा में हुई थी, जो नीरू और नीमा (उनके देखभाल करने वाले माता-पिता) थे। उनके माता-पिता बेहद गरीब और अशिक्षित थे, लेकिन उन्होंने एक छोटे बच्चे को बड़े दिल से अपनाया और उन्हें अपने व्यवसाय में प्रशिक्षित किया। उन्होंने एक साधारण गृहस्थ और फकीर के संतुलित जीवन का नेतृत्व किया।

कबीर दास का परिचय 

kabir das
kabir das
नाम कबीर दास (Kabir Das)
जन्म  ठीक से ज्ञात नहीं  (1398 या  1440) लहरतारा , निकट वाराणसी
मृत्यु ठीक से ज्ञात नहीं  (1448 या 1518) मगहर
व्यवसाय कवि, भक्त, सूत कातकर कपड़ा बनाना
राष्ट्रीयता भारतीय

कबीर दास के सुप्रसिद्ध दोहे हिंदी में (Kabir Das Ke Dohe)

गुरु गोविंद दोउ खड़े, काके लागूं पांय

बलिहारी गुरु आपनो, गोविंद दियो बताय।

अर्थ हिंदी में: गुरु और गोविंद (भगवान) दोनों एक साथ खड़े हैं। जिसका पहला चरण स्पर्श करना है। कबीरदास जी कहते हैं, मैं सबसे पहले गुरु को नमन करूंगा क्योंकि उन्होंने गोविंद तक पहुंचने का रास्ता दिया है।

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,

ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।

अर्थ हिंदी मे: बड़ी किताबें पढ़ने के बाद, दुनिया के कई लोग मौत के दरवाजे तक पहुँच गए, लेकिन सभी विद्वान ऐसा नहीं कर सके। कबीर का मानना है कि अगर कोई प्यार और प्यार के केवल ढाई अक्षर पढ़ता है, यानी वह प्यार का असली रूप जानता है।

माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,

कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।

अर्थ हिंदी में: एक व्यक्ति लंबे समय तक अपने हाथ में मोती की एक माला घुमाता है, लेकिन उसका मूड नहीं बदलता है, उसका दिमाग नहीं चलता है। ऐसे व्यक्ति को कबीर की सलाह है कि हाथ के इस पाठ को मोड़ने के अलावा, दिमाग के घुमावों को बदलें या मोड़ें।

जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,

मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।

अर्थ हिंदी में: सज्जन व्यक्ति की जाति को नहीं समझना चाहिए और उसके ज्ञान को समझना चाहिए। तलवार को महत्व दिया जाता है, उसके म्यान के खोल को नहीं।

जग में बैरी कोई नहीं, जो मन शीतल होय

यह आपा तो डाल दे, दया करे सब कोय

अर्थ हिंदी में: अगर हमारा दिमाग ठंडा है, तो इस दुनिया में हमारा कोई दुश्मन नहीं हो सकता। अगर आप अहंकार को छोड़ देते हैं, तो हर कोई हमें दया करने के लिए तैयार है।

साईं इतना दीजिए, जा में कुटुंब समाय

मैं भी भूखा न रहूं, साधु ना भूखा जाय

अर्थ हिंदी में: कबीरदास जी कहते हैं कि परमात्‍मा आप ही मुझे बताएं कि मैं जीवित हूं। मुझे भूखा नहीं रहना चाहिए और मेहमानों को भूखे नहीं लौटना चाहिए।

तन को जोगी सब करें, मन को बिरला कोई.

सब सिद्धि सहजे पाइए, जे मन जोगी होइ.

अर्थ हिंदी में: शरीर में भगवे वस्त्र धारण करना सरल है, पर मन को योगी बनाना बिरले ही व्यक्तियों का काम है। य़दि मन योगी हो जाए तो सारी सिद्धियाँ सहज ही प्राप्त हो जाती हैं।

जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरी है मैं नाही

सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही

अर्थ हिंदी में: जब मैं अपने अहंकार में डूबा था, मैं भगवान को नहीं देख सकता था। लेकिन जब गुरु ने मेरे भीतर ज्ञान का दीप जलाया, तो ज्ञान का सारा अंधकार मिट गया। ज्ञान के प्रकाश से अहंकार बाहर निकला और ज्ञान की रोशनी में ईश्वर को पाया।

बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।

पंछी को छाया नहीं फल लागे अति दूर ॥

अर्थ हिंदी में: ताड़ के पेड़ के रूप में बड़े होने का क्या फायदा है, जो किसी को भी ठीक से छाया नहीं दे सकता है। न ही इसके फल सुलभ हैं।

कबीर सुता क्या करे, जागी न जपे मुरारी ।

एक दिन तू भी सोवेगा, लम्बे पाँव पसारी ।।

अर्थ हिंदी में: कबीर कहते हैं – तुम अज्ञान में क्यों सोते हो? ज्ञान के जागरण के बाद, भगवान का नाम लें। प्रभु का ध्यानपूर्वक ध्यान करें। वह दिन दूर नहीं जब आपको गहरी नींद लेनी पड़ेगी – जब आप जागेंगे तब क्यों नहीं? आपको भगवान का नाम क्यों नहीं याद है?

आछे / पाछे दिन पाछे गए हरी से किया न हेत ।

अब पछताए होत क्या, चिडिया चुग गई खेत ।।

अर्थ हिंदी में: सारा दिन देखने के बाद भी – अच्छा समय बीत गया है – आप प्रभुत्व से नहीं लौटे हैं – क्या आपको समय बीतने का पछतावा नहीं था? पहले साल नहीं थे – जैसे कि एक किसान अपने खेत की देखभाल नहीं करता है और पक्षी को देखने पर अपनी फसल को नष्ट कर देगा।

रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय ।

हीरा जन्म अमोल सा, कोड़ी बदले जाय ॥

अर्थ हिंदी में: रात में नींद को नष्ट कर दिया – सोते रहो – दिन में खाली समय नहीं मिला। यह मानव जन्म एक हीरे की तरह महान था, जिसे आपने बर्बाद कर दिया है – कुछ भी सार्थक नहीं है, तो जीवन का मूल्य क्या है? एक पैसा

जरुर देखे :-

निष्कर्ष

हमने आपको इस पोस्ट के माध्यम से आपको कबीर दास जी के बारे में और उनके कुछ सुप्रसिद्ध दोहे हिंदी अर्थ सहित आपके पास इस पोस्ट के माध्यम से दिए है आपको कैसा लगा इ कमेंट में जरुर बताये

kabir das
लेखक

नमस्कार दोस्तों, आपका स्वागत है Desi Technical हिन्दी ब्लॉग में यहाँ हमारा पर्यास यह है की हम आपको नये-नये Technologies से रूबरू कराये और आपको सही एवं सटीक जानकारी दे सके । हमारा आपसे ये निवेदन है की आप इसी तरह आपके के अपने Blog Desi Technical में सहयोग देते रहे । धन्यवाद!

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share via
Copy link
Powered by Social Snap